MENU X
जयपुर शहर के चारों ओर रामगढ़ झील:


जमवा रामगढ एक लोकप्रिय जगह है ये जयपुर के आम लोगो के बीच रामगढ के रूप में जाना जाता है। यह जयपुर शहर से लगभग 35 किमी की दुरी पर स्थित है। वर्तमान में रामगढ झील एक सूखे हालात में है। अभी यहां पर प्राकृतिक सौन्दर्य और प्राकृतिक हरियाली इस साल बिलकुल भी नही है।

रामगढ़ झील को क्या सुशोभित बनाता है?

मानसून, बरसात के मौसम में बारिश और सर्दी के मौसम और ताजा और ठंडी हवा के लिए सरकार को हरियाली लगानी चाहिए सुखी जगह को वापस से आप हरीभरी बना सकते है।

मानसून के मौसम में और सर्दियों के मौसम में रामगढ झील बहुत ही अच्छी लगती है।

रामगढ - परिवार के साथ सेर करने के लिए सही जगह

जमवा रामगढ सप्ताह के अंत में आप परिवार के साथ पिकनिक मानाने की अच्छी जगह है यहां पर आकर प्रकृति की गोद में बैठ कर आप सुखद जीवन का आनंद लीजिये।

रामगढ़, न बहुत दूर, चलो ड्राइव करते हैं

जमवा रामगढ लोगो की पहुँच के अंदर है यह बहुत दूर नही है आप यहां पर साहसिक कार्य जैसे पहाड़ पर चढ़ना उतरना कर सकते है आप को बहुत अच्छा लगेगा।

रामगढ़ के रास्ते पर जल महल

रामगढ के रास्ते में जल महल है यहां पर आपको जल महल की सुंदरता को देख कर यहां पर रुकने का मन करेगा और आप यहां पर रुक भी जायेगे और घूम के जायेगे।

रामगढ बाघ में पहले बहुत पानी था इसके लिए ये प्रसिद्ध

रामगढ़ बांध की प्रसिद्धि पानी के लिए आज तक काफी मानी जाती है।

रामगढ़ बांध की दीवारों से, इसके अंदर पानी के स्तर को आसानी से देखा जा सकता है।

एक ऐसा भी समय था जब रामगढ बाघ भरा हुआ था और पानी के साथ बुदबुदाती था।

इतिहास : क्या रामगढ़ झील के निर्माण के लिए कुछ हो रहा है।

जमवा रामगढ बाघ का इतिहास सदियो से तारीखों में ही दफन है।

बार-बार पराजित

यह कहा जाता है कि 11 वीं सदी में वापस, कछवाहा वंश के शासक दुलारे मीणा राजवंश समय के शासकों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और फिर बाद में कई बार उनको हार का सामना करना पड़ा था।

भगवान से प्रार्थना

हार के बाद दुलारे मीना ने अपनी कुलदेवी के सामने बहुत ज्यादा प्रार्थना की और मीना शासको को युद्ध में जितने के लिए देवी से वरदान माँगा। ऐसा माना जाता है कि कुलदेवी उनके सपने में आई और उनको जितने का आशीर्वाद दे दिया। बाद में दुलारे मीना ने राजवंश के शासकों को पराजित करने में सफलता हासिल की और सालो बाद सफलता का स्वाद चखा।  

कुलदेवी के लिए एक श्रद्धांजलि के रूप में मंदिर

इसके बाद मीना ने राजवंश पर अपनी जीत उनके आशीर्वाद उनकी पूजा और प्रसाद के लिए दुलारे मीना ने किलदेवी के मंदिर का निर्माण करवाया। ऐसा कहा जाता है कि दुलारे मीना राम वंश के थे इसलिए उनके वंश के नाम पर यहां का नाम जमवा रामगढ रखा गया था

रामगढ़ : पक्षियों पर नजर रखने और प्रशंसकों के लिए एक स्थान

रामगढ बाघ में देश विदेश से पक्षी साल भर भोजन की तलाश में आते है और यहां पर रहते है। इसलिए रामगढ़ झील अलग-अलग पक्षियों के नजारे देखने के लिए प्रसिद्ध है।

 


You May Also Like

As we all know GST will be in effect from the 1st of July, but not everyone is happy about this change. Many traders went on protest in Jaipur for the same.

A budget that amounts to 4 crores INR has also been sanctioned for the creation of the Lion Safari at Nahargarh.

After the revamp happening of Lord Krishna and his temples in the state of Rajasthan, a proposal of Lord Balaji is on the way up.

Aniruddh Dave, a television actor from the city of Jaipur has been working in television serials and taking up television projects for quite a number of years now.

18th June will be a historical day not only for Indian Air Force but for the people of entire country, when 3 daughters of the country shall fly fighter aircraft for the first time in history of Indian Air Force.