MENU X


जयपुर में एक से बढ़कर एक शिल्प कौशल के कुशल कारीगर है। मुर्तिया बनाने के लिए ब्लॉक प्रिंट, टाई और डाई कपड़े, हस्तनिर्मित कागज, पारंपरिक रूपांकनों, कालीन बनाने से लेकर और भी बहुत कुछ है जयपुर में कलाकारों ने कला में कई अलग-अलग प्रकार की महारत हासिल की है।

जयपुर में जब गणेश चतुर्थी आने वाली होती है तब शहर के कारीगर अपनी कुशलता का प्रदर्शन करते है वे कई पीढ़ियों से ये काम कर रहे है उनको ये काम विरासत में मिला है और अपने इस काम को बड़ी लगन से करते है। हम आपको cityofjaipur.com के माध्यम से बता रहे है कि मूर्ति कैसे बनती है भगवान गणेश की सूंदर मुर्तिया मिटटी से बनाते है फिर इस के ऊपर पेंटिग की जाती है कुछ ही महीनों में कारीगरों के द्वारा ये मुर्तिया तैयार कर दी जाती है फिर इस तैयार सूंदर मूर्तियों को लोग खरीद कर अपने घर ले जाते है।

एक छोटा सा बच्चा जो अपनी कला का प्रदर्शन कर रहा है उसको कैमरे में कैद कर लिया गया है इस बच्चे का काम करने का जूनून और समर्पण देखने लायक है।

तो हम देख कर ये जान ही गए है कि कितने हाथो के प्रयास के बाद ये मुर्तिया तैयार की जाती है जो लोग जल्दी ही खरीद कर अपने घर के मन्दिर के कोने में विराजमान कर देते है।

अब आप जाओ गणपति जी को घर ले जाने की सभी तैयारियां हो गएहै ! इस उत्सव सप्ताह के लिए जयपुर के सभी लोगो को मुबारकबाद !

 

Save


You May Also Like

Where can you get iPhone 7 and iPhone 7 Plus models in Jaipur? Find them at any of these Apple Stores and premium resellers in Jaipur.

Now you can enjoy Delhi’s popular chaat in Jaipur at the Dilli Wali Khau Galli Festival at Barbeque Nation from Aug 19-Sep 6.

Heavy rains lead to the death of 7 in the state of Rajasthan. Army had to be called to carry out rescue operations and to retrieve bodies.

During summers, your body asks for extra care and attention so as to keep yourself protected against the harsh weather conditions. Here are a few tips that will help you lead a healthy life during summers.

Due to lack of rules and regulations, the ticketed entry of visitors in Jhalana Forest Area is proving harmful for the sanctity of the forest and interfering with the natural lifestyle and habits of the wildlife.