MENU X
जयपुर कपड़ा - आपकी आवश्यकता के हिसाब से सब कुछ है यहाँ


जयपुर शहर कपड़े के व्यवसाय में बहुत लोकप्रिय है, जैसे रेशम कला, जॉरजट और जरी, जरदोजी, धागा और रेशम कढ़ाई का काम यहां का प्रसिद्ध कार्य है इसके अलावा भी यहां पर अन्य कपड़े भी बहुत अधिकता में तैयार किये जाते है। गुलाबी शहर में वस्त्रो का निर्माण बहुत बड़े पैमाने पर फैला हुआ इसमें से प्रमुख है पारंपरिक, आधुनिक, क्लासिक इसके आलावा जो शादी में और पार्टी में पहने जाते है जो वास्तव में महिलाओ और पुरुषो के लिए अलग-अलग होते है। जयपुर के प्रसिद्ध पारम्परिक उत्पादों में से कुछ एक इस प्रकार है साड़ी, स्कर्ट, कपड़े सामग्री और सलवार कुर्ती इन सब की यहां पर विभिन्न क़िस्मे है और एक से बढ़कर एक खूबसूरत डिजाइन है इनके बहुत सारे पैटर्न रंग और प्रिंट भी मौजूद है।

प्रमुख थोक विक्रेताओं और जयपुर कपड़ा खुदरा विक्रेता

जयपुर गुलाबी शहर में वस्त्रो के बहुत सारे  थोक विक्रेता और खुदरा विक्रेता है जो बहुत ही अद्भुत वस्त्र तैयार करते है -

1. रतन कपड़ा

the ratan textile

रतन कपड़ा एक ऐसा कपड़ा उद्योग है जहां पर सूती कपड़े, रेशमी कपड़े मिलते है और कपड़ो पर अद्भुत पेच का काम, जरी का काम और विभिन्न डिजाइनों से ये कपड़े तैयार करके लोगो तक पहुँचाये जाते है। आप यहां पर आकर देखेगे तो आपको काम करने का अलग ही तरीका देखने को मिलेगा।

2. संजय कपड़ा

sanjay textiles

यहां पर वस्त्रो के ऐसे खुदरा विक्रेता है जो पुरुषो के विभिन्न प्रकार के पारम्परिक वस्त्र कई अन्य डिजाइनों में तैयार करते है। यहां पर शेरवानी, मोदी जैकेट की अन्य बहुत साड़ी डिजाइन तैयार होती है और यहां पर पुरुषो की हर जाती के हिसाब से कपड़ो की डिजाइन मिल जाती है।

3. राणा विरासत

hand printing

यह दुकान जयपुर शहर में है जहां पर कपास और रेशम कपड़ो को तैयार किया जाता है। यहां पर भनदेज और टाई-एन-डाई के वस्त्र कपास और रेशम से तैयार होते है। ये खूबसूरत कपड़ा तैयार करने का सबसे पुराने उपक्रमो में से एक है।

सांगानेर और बागरी ये दो कस्बों है जो हाथ मुद्रित कपड़ा के अग्रणी निर्माताओं में से एक है।

4. रूप लक्ष्मी

Roop Laxmi

रूप लक्ष्मी यह दुकान सलवार सूट, साड़ी और कई अन्य पारंपरिक और क्लासिक कपड़ो की अलग-अलग और अदभुद विविधता प्रदान करता है। यह महिलाओ के लिए पसन्दीदा खरीदारी स्थलों में से एक है यहां पर महिलाओ को हर डिजाइन के सूंदर कपड़े मिल जाते है।

5. राजस्थानी एम्पोरियम

Rajasthani Emporium

यह दुकान जयपुर की सबसे पुराणी दुकानों में से एक है यहां पर हर जाती के कपड़े मिल जायेगे जैसे रंगीन पारंपरिक कपड़े, साड़ी और पोशाक सामग्री और कपड़ो की बहुत सारी डिजाइने और वेराइटी यहां पर देखने को मिलेगी। इसके अलावा इन कपड़ो को आप जयपुर के  त्रिपोलिया बाजार, जौहरी बाजार, बापू बाजार और दूसरे आपपास के बाजारों में भी ले सकते है।

जयपुर वस्त्र मेलें और प्रदर्शनिया

Exibition

जयपुर शहर में कपड़े के प्रमुख निर्यातक वस्त्र उधोग को आगे बढ़ाने के लिए मेलों और शहर में प्रदर्शनियों की व्यवस्था की जाती है जिसे देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते है कपड़ो को देखते है और खरीदते है।

ऐसे कई मेले है जैसे फोरहेक्स मेला 2009, वस्त्र मेला, आईगेट मेला 2009 में, ये गारमेंट प्रोधोगिकी को आगे बढ़ाने के लिए जयपुर शहर में ऐसे विभिन्न मेलो का आयोजन किया जाता है।  इन मेलों और प्रदर्शनियों के आयोजन से जयपुर शहर में एक भूमंडलीकरण का विकास होगा और व्यापार को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी और  दिलो तक पहुँचगा।

जयपुर में शादी की खरीदारी

shopping in jaipur

जयपुर शहर शादी के सीजन के हिसाब से खरीदारी के लिए बहुत अच्छा है यहां पर विशेष रूप से दुल्हन के लिबाज़ लेहेंगा, पारंपरिक सलवार सूट, साड़ी और अलग-अलग जातियो की अलग-अलग ड्रेस मिलती है। शादी के सीजन में जयपुर शहर में दुकानों को अगल ही सजा दिया जाता है और शादी के जैसा महौल बन जाता है इसलिए आप अपनी शादी की पूरी खरीदारी जयपुर शहर में खरीद सकते है।

कुल मिलाकर जयपुर में  कपड़ा थोक व्यापारी, बाजार, व्यापारियों, निर्यातकों और निर्माताओं सहित सभी के लिए एक बहुत ही समृद्ध और विकासशील व्यवसाय है।

 

Save


You May Also Like

The Uri attacks on Sunday killed 19 soldiers out of which a Rajasthan martyr is to be cremated on his 48th birthday.

The Kargil Vijay Diwas is a day to remember the ones who fought to protect us and lost their lives to wars. July 26 is celebrated as the Vijay Diwas to commemorate India’s victory in the Kargil war.

Wait of students gets over as all the 4 constituent colleges of Rajasthan University (Uni Raj) i.e. Maharaja, Maharani, Commerce and Rajasthan college issue the first cut-off list for under-graduate admission.

Engineering colleges affiliated under the Rajasthan Technical University (RTU) are suffering from a low number of students seeking admission to these colleges. The figures are so meagre that it is almost astonishing.

They quarrel over trivial matters and they fight with one another, sometimes with pillows and other times with fists too.