MENU X


पुरोहित जी का कतला: किफायती दामों पर सामान खरीदने के लिए सबसे अच्छी जगह

पुरोहित जी का कतला जयपुर में एक प्रसिद्ध बाजार है यह बाजार बाकी सारे बाजारों में अपना एक अलग ही स्थान रखता है। बाजार में शहर की कुछ प्रसिद्ध दुकाने है। इस बाजार की बहुत ही सूंदर गलिया होती है जो लोगो को अपनी और आकर्षित करती है।

सामान

यह बाजार खिलोनो और प्लास्टिक के सामान के लिए मशहूर है। यहां पर आपको नवीन तकनीक के तैयार खिलौने मिलेंगे यह खिलोने जयपुर के कारीगरों के द्वारा लकड़ी से तैयार किये जाते है दैनिक घरेलू उपयोग के लिए प्लास्टिक के आइटम भी यहां पर बड़ी मात्रा में मिलते है। यहां पर प्लास्टिक के कंटेनर प्लास्टिक की कुर्सियां और प्लास्टिक के सारे सामान की अलग-अलग वेराइटीज मिलती है। यहां पर ऐसी भी दुकाने है जो 3 व 4 पीढ़ियों से चली रही है उन दुकानदारो का आचरण भी बहुत अनुकरणीय है।

इस सामान को देखकर ग्राहकों का ध्यान तुरन्त उधर जाता है। यह दुकानदार अपने आथित्य के लिए कट्टर विश्वासि रहे है वास्तव में यह बाजार राजस्थान के आथित्य को अनुभव को महसूस करने के लिए सर्वोत्तम स्थानों में से एक है।

यहां पर दुकानों में स्कुल का सामान और कार्यालय का सामान अलग-अलग विविधता में थोक के भाव पर मिल जाता है आप यहां पर बड़ी मात्रा में सामान को उचित मूल्य पर खरीद सकते है। यहां पर आधुनिक डिजाइन के पेन, कलम दैनिक उपयोग में आने वाली कॉपिया खरीद सकते है। जयपुर में आपको इससे कम कीमत में सामान कही पर भी नही मिलेगा। सबसे अच्छी बात यह है कि इस तरह के मूल्य की दुकानो की गुणवत्ता के साथ समझौता नही कर सकते है इसका मुख्य कारण है कि इस तरह की कम कीमत पर सामन मिलने के कारण यह थोक बाजार भी बन गया है यहां पर आप कोई भी सामान थोक के भाव पर खरीद सकते हो यहां पर दुकानदार दुकानों के लिए सामान थोक के भाव में खरीद कर ले जाते है। आपको कम कीमत पर मिलेगा।

जब यात्रा करने के लिए आये

हलाकि यहां पर सप्ताह के अंत में सड़को पर बहुत ज्यादा भीड़ होती है। तो आपको यहां पर सावधानी से जाना होगा जबकि पुरोहित जी का कतला में सप्ताह के अंतिम 2 दिनों में खरीदारी करने का अच्छा दिन माना जाता है क्योकि दुकानों पर सोमवार को नया सामान आता है इसलिए दुकानदार अपने पुराने समान को उन दो दिनों में और भी कम कीमत पर निकाल देते है। आप इस थोक भाव में अच्छी सौदेबाजी कर सकते हो।

 


You May Also Like

Rajasthan has successfully contributed in Project tiger with its tiger reserves. And now, the state is going to have Leopard Reserves, as a first ever effort for leopard conservation.

Indian Junior Squash Championship 2016 has been dated to be organised from August 31, 2016 to September 4, 2016.

The only good part is that no one was present at the portion which collapsed else the pink city could have lost lives as well.

The security and safety is handed over the forest guides of the Ranthambore National Park.

Museums are a pure and authentic display of history and origin of things. The use of antique items, the display and work of the times of kings and queens and the royals.