MENU X


पुरोहित जी का कतला: किफायती दामों पर सामान खरीदने के लिए सबसे अच्छी जगह

पुरोहित जी का कतला जयपुर में एक प्रसिद्ध बाजार है यह बाजार बाकी सारे बाजारों में अपना एक अलग ही स्थान रखता है। बाजार में शहर की कुछ प्रसिद्ध दुकाने है। इस बाजार की बहुत ही सूंदर गलिया होती है जो लोगो को अपनी और आकर्षित करती है।

सामान

यह बाजार खिलोनो और प्लास्टिक के सामान के लिए मशहूर है। यहां पर आपको नवीन तकनीक के तैयार खिलौने मिलेंगे यह खिलोने जयपुर के कारीगरों के द्वारा लकड़ी से तैयार किये जाते है दैनिक घरेलू उपयोग के लिए प्लास्टिक के आइटम भी यहां पर बड़ी मात्रा में मिलते है। यहां पर प्लास्टिक के कंटेनर प्लास्टिक की कुर्सियां और प्लास्टिक के सारे सामान की अलग-अलग वेराइटीज मिलती है। यहां पर ऐसी भी दुकाने है जो 3 व 4 पीढ़ियों से चली रही है उन दुकानदारो का आचरण भी बहुत अनुकरणीय है।

इस सामान को देखकर ग्राहकों का ध्यान तुरन्त उधर जाता है। यह दुकानदार अपने आथित्य के लिए कट्टर विश्वासि रहे है वास्तव में यह बाजार राजस्थान के आथित्य को अनुभव को महसूस करने के लिए सर्वोत्तम स्थानों में से एक है।

यहां पर दुकानों में स्कुल का सामान और कार्यालय का सामान अलग-अलग विविधता में थोक के भाव पर मिल जाता है आप यहां पर बड़ी मात्रा में सामान को उचित मूल्य पर खरीद सकते है। यहां पर आधुनिक डिजाइन के पेन, कलम दैनिक उपयोग में आने वाली कॉपिया खरीद सकते है। जयपुर में आपको इससे कम कीमत में सामान कही पर भी नही मिलेगा। सबसे अच्छी बात यह है कि इस तरह के मूल्य की दुकानो की गुणवत्ता के साथ समझौता नही कर सकते है इसका मुख्य कारण है कि इस तरह की कम कीमत पर सामन मिलने के कारण यह थोक बाजार भी बन गया है यहां पर आप कोई भी सामान थोक के भाव पर खरीद सकते हो यहां पर दुकानदार दुकानों के लिए सामान थोक के भाव में खरीद कर ले जाते है। आपको कम कीमत पर मिलेगा।

जब यात्रा करने के लिए आये

हलाकि यहां पर सप्ताह के अंत में सड़को पर बहुत ज्यादा भीड़ होती है। तो आपको यहां पर सावधानी से जाना होगा जबकि पुरोहित जी का कतला में सप्ताह के अंतिम 2 दिनों में खरीदारी करने का अच्छा दिन माना जाता है क्योकि दुकानों पर सोमवार को नया सामान आता है इसलिए दुकानदार अपने पुराने समान को उन दो दिनों में और भी कम कीमत पर निकाल देते है। आप इस थोक भाव में अच्छी सौदेबाजी कर सकते हो।

 


You May Also Like

Seasonal Illnesses like Dengue and Chikungunya have caused Trade, Travel, Tourism, Hospitality and Aviation industries take a back seat in Jaipur, in fact all of Rajasthan.

With presence in 27 countries now, the Jaipur Foot is changing lives of many. Recently, a Congo national visited Jaipur to get the Jaipur Foot fitted. A year after he lost his limb to a car accident, he is now walking again.

Yes, you read that right! A coaching institute based in Sikar, Rajasthan has recently honoured its IIT-JEE topper, Tanmay Shekhawat

UN World Environment Day is observed worldwide every year on the 5th of June to raise awareness about protecting nature and the planet Earth.

Government of Rajasthan (GoR) organised Rajasthan IT Day 2016 at Birla Auditorium, Jaipur. The theme of the day was “Promotion of IT Startups”.