MENU X
बिरला मंदिर: खूबसूरत कला का संगमरमर टुकड़ा


बिरला मंदिर जयपुर के केन्द्र में स्थित है जहाँ गुलाबी शहर के सभी हिस्सों से आसानी से पहुँचा जा सकता है। यह लक्ष्मी नारायण मंदिर के रूप में जाना जाता है। यह शहर के परंपरागत प्राचीन सबसे पुराने हिंदू मंदिरों में से एक है। यह भगवान विष्णु को समर्पित है। यह इस शहर के एक वास्तुशिल्प मील का पत्थर है।

मंदिर के आसपास क्या है

यह मोती डूंगरी हिल के नीचे स्थित है, और अद्भुत वातावरण और मोती डूंगरी गणेश मंदिर, मां दुर्गा मंदिर, कुलिश कुलिश स्मरति वन, जलधारा, अल्बर्ट हॉल और जयपुर चिड़ियाघर, रामनिवास गार्डन ये सब मंदिर के आसपास है । यहाँ पर पर खरीदारी करने के लिए भी बहुत दुकाने है जहाँ से आप सामान खरीद सकते हो ।

बिरला मंदिर का इतिहास

 यह 1988 में में बी.म. बिरला फाउंडेशन द्वारा बनाया गया था। यह सब को अच्छी तरह से पता है कि ये अमीर व्यापारी बिरला परिवार के द्वारा बनाया गया है। बिड़ला ने कई मंदिरों और देश भर में पवित्र स्थानों का निर्माण किया था। जिस भूमि पर यह मन्दिर बनाया गया था वो महाराजा द्वारा बिरला ने एक रुपए में खरीदा था । 

बिरला मंदिर की वास्तुकला

इस आध्यात्मिक मन्दिर को सफेद संगमरमर से बनाया  है इस पत्थर पर अमीर नक्काशियों के रूप में गुलाबी शहर की वास्तुकला बहुत ही सुंदर लग रही है जो दिल को छू जाती है । मंदिर की सुंदर स्थापत्य कला और सुंदर नक्काशियाँ गुलाबी शहर की वास्तु कला को दर्शाती है । मन्दिर में भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी की आकर्षक मूर्तियां है।  प्राचीन गीता उद्धरण, हिन्दू प्रतीकों, धार्मिक आंकड़े, और मूर्तियों की नाजुक नक्काशियों, ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करने और दार्शनिकों, और पौराणिक चित्रों के आंकड़ों को देखा जा सकता है।कला प्रेमियो की अदभुत कला  प्रदर्शन किया गया है । इस मंदिर में वास्तुकला के सौन्दर्य का आनंद प्राप्त कर सकते है । इसके नाजुक कला का काम है और नक्काशियों अद्भुत हैं। यह शुद्ध सफेद संगमरमर पर बना है यह रात के समय हल्का हो जाता है ।

बिरला मंदिर धूमने का आनंद

बिरला मंदिर में तीन विशाल गुम्बद है जो अलग-अलग धर्म के दृष्टिकोण को दर्शाती हैं। हिन्दू पौराणिक कथाओ के दृश्य बाहर कांच की खिड़की में देखे जा सकते है । मंदिर के अंदर उल्लेखनीय मूर्तियों की राजसी अपील पौराणिक कथाओं को दर्शाया गया है। मंदिर परिसर में एक संग्रहालय हैं, चारो तरफ हरे भरे बगीचे इस बनावट की तारीफ करते है ।  बिरला मंदिर का निर्माण प्रतिभाशाली लोगों के काम का एक आधुनिक उदाहरण है। यहां की वास्तुकला इतनी सुंदर है कि इस मंदिर की भव्यता को बढाती है ।  यह हरे भरे बगीचे से घिरा है और इसे प्रमुख पर्यटक स्थल मानते है ।

सबसे अच्छा समय बिड़ला मंदिर की यात्रा करने के लिए

मार्च से अक्टूबर तक का सबसे अच्छा समय बिरला मंदिर की यात्रा के रूप में माना जाता है। कृष्णा जन्माष्ठमी भक्तों द्वारा मनाया जाता है इस मंदिर में इसका आनंद प्राप्त किया जा सकता है। यह त्योहार बहुत उत्साह और उल्ल्हास के साथ पुरे पैमाने पर मनाया जाता है। उपयुक्त समय मंदिर का दौरा करने के 12:00 दोपहर 8.00 बजे और हर दिन 8.00 बजे रात  4.00 बजे शाम आ सकते है। यह दोपहर 12:00 बजे से शाम 4:00 तक बंद रहता है। पर्यटकों के लिए बिरला मंदिर में शॉपिंग कॉम्प्लेक्स उपलब्ध है  पारंपरिक और हस्तनिर्मित वस्तुओं की दुकाने है जहां आप खरीदारी कर सकते है ।

एयरपोर्ट से आप मंदिर कैसे पहुचेगे

टैक्सी या केब

  • हवाई अड्डे से जवाहर लाल नेहरू मार्ग से6 किलोमीटर है ।
  • बिरला मंदिर पहुचने के लिए 30 मिनिट लगते है टैक्सी या ऑटो 25 मिनिट में भी ले जायेगा ।
  • एक तरफ के लिए ऑटो वाला लगभग 100-130 रूपये तक लेता है ।

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

  • बस सेवा बिड़ला मंदिर के लिए उपलब्ध है।
  • आप ऑटो ले और जवाहर सर्किल तक पहुँच जाये,जवाहर सर्किल से आप को बस 3A टुवर्ड्स छोटी चौपड़ तक ले जायेगी । यहाँ से एसएमएस हॉस्पिटल4 किमी है वो आप को वहा पर छोड़ देगी । वहा से आप को ऑटो लेना पड़ेगा जो आप को 10 मिनिट में वहा छोड़ देगा । 
  • यहाँ आने में अधिक से अधिक 60-70 मिनिट का समय लगेगा ।
  • टिकट और जानकारी के लिए फोन करे = +91 141 223 3509

रेलवे स्टेशन के माध्यम से टैक्सी या ऑटो

  • रेलवे स्टेशन से भवानी सिंह रोड के माध्यम से6 किमी दूर है ।
  • बिरला मंदिर पहुचने के लिए टैक्सी या ऑटो से 30 मिनिट लगेंगे ।
  • एक तरफ के लिए लगभग ऑटो 90 - 120 भारतीय रूपये लेगा ।
  • एक तरफ के लिए लगभग टैक्सी 120 - 140 भारतीय रूपये लेगा ।

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

बस सेवा बिड़ला मंदिर के लिए उपलब्ध है। आप ऑटो से सेंटर रेलवे हॉस्पिटल के मध्य से बस गलत गेट ले जायेगी वहा पहुचने में 10 मिनिट लगेगी इसके बाद बस आप को 500 मीटर दूर जेडीए सर्किल पर छोड़ देगी वहा से आप को पैदल का 10 मिनट का रास्ता है । यहाँ पहुचने में आप को 25 से 30 मिनट का समय लगेगा ।

पार्किंग सूचना

उपलब्ध पार्किंग

नि: शुल्क -  (सड़क के किनारे)

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करे - 099284 65431

 


You May Also Like

Recently on Wednesday, the City of Lakes Udaipur witnessed the wedding of Jahnvi Kumari and Jodhpur Prince Parikshit Singh.

A number of startup founders addressed the event to inspire young, aspiring entrepreneurs to take on the journey to make their respective startups grow.

Due to take place in the month of November 2016 are the Asian Cycle Polo Championship and the 11th World Cycle Polo Championship.

Laxmi Vishwakarma, Rajasthan’s taekwondo champion is living a life of extreme poverty.

Jaipur is celebrating many different colourful festivals in a year, Part of that Gangaur is the one of them. This festival is celebrated by the married women to rejoice “Saubhagya”.