MENU X
अल्बर्ट हॉल - जयपुर राजस्थान के सबसे पुराना संग्रहालय


अल्बर्ट हॉल संग्रहालय जयपुर, राजस्थान का सबसे पुराना संग्रहालय है। संग्रहालय के निर्माण न्यू गेट के सामने रामनिवास गार्डन में स्थित है। यह भी राजस्थान के राज्य संग्रहालय के रूप में कार्य करता है और साथ ही सरकार के केन्द्रीय संग्रहालय कहा जाता है। अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में पेंटिंग, कालीन, हाथी दांत, पत्थर, धातु की मूर्तियां, रंगीन क्रिस्टल का किया गया है। यह बहुत सारी कलाकृतियों का एक समृद्ध संग्रह है ।

इतिहास

अल्बर्ट हॉल की आधारशिला 6 फरवरी को साल 1876 में रखी गई थी, जब प्रिंस ऑफ वेल्स, अल्बर्ट एडवर्ड जयपुर की यात्रा के दौरान आये थे। यह भवन उनके नाम पर ही बनवाया गया था। लेकिन अभी भी इसके निर्माण के उदेश्य पर एक अनिश्चितता है। यह अभी तक तय नही किया गया है कि इसका उपयोग कैसे किया जाये।

महाराजा सवाई राम सिह ने संग्रहालय में टाउन हॉल का निर्माण करवाना चाहते थे। कुछ लोगो ने इसे सांस्कृतिक या शैक्षणिक में उपयोग के लिए सुझाव दिया था। डॉ थॉमस होबेन हेडली ने एक औद्योगिक संग्रहालय के रूप में निर्माण का उपयोग कर अपने शिल्प प्रदर्शित करके स्थानीय कारीगरों को प्रोत्साहित करने का सुझाव दिया। इसके बाद जयपुर के महाराजा सवाई माधो सिह द्वितीय को ये विचार पसन्द आया और उन्होंने 1880 में इसका निर्माण करवाया था। और 1887 के अंत में इस संग्रहालय को जनता के लिए खोल दिया गया था।

वास्तुकला और डिजाइन

अल्बर्ट हॉल का निर्माण सैमुअल स्विंटन जैकब, मीर तुजुमूल हूसैन के द्वारा सहायता लेकर डिजाइन किया गया था। यह भारत के अरबी आर्किटेक्चर और पत्थर अलंकरण से तैयार किया गया था यह भी इसकी सुंदरता का अभिन्न अंग है। इसके निर्माण की स्थापत्य शैली मुगल वास्तुकला इतनी सूंदर है कि इसके अलग-अलग डिजाइन भारतीय राजपूत वास्तुकला और शास्त्रीय शैलियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गया है।

अल्बर्ट हॉल के गलियारों में रामायण के भित्ति चित्रों और साथ ही फारसी राजमनामा सम्राट अकबर के लिए तैयार कर सजाया गया था। भित्ति चित्र के कुछ ऐसे यूरोपीय, मिस्र, चीनी, ग्रीक और बेबीलोन सभ्यता के रूप में विभिन्न सभ्यताओं के समान चित्रित किया गया था। इन भिति चित्रो से लोगो को विभिन्न युगों की कला इतिहास और उस युग के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए बनाया गया था। इस संग्रहालय के द्वारा सदियों पुरानी सभ्यता और प्रौद्योगिकी के विकास को दर्शाया गया था आज ये संग्रहालय भारत के अत्यधिक प्रशंसित संग्रहालयों में से एक है। 

मैं अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में क्या देख सकता हूं ?

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पुरातात्विक और ऐतिहासिक कलाकृतियों के महत्व का बड़ा संग्रह है। कुछ कलाकृतियों सिंधु घाटी सभ्यता को प्रदर्शित करती है तो कुछ उस युग औद्योगिक क्रांति की तारीखों को चिंहित करता है। इस संग्रहालय में मानव जीवन शैली के ऐतिहासिक काल के दौरान पालन किये जाने वाले विभिन्न चरणों को प्रस्तुत करता है। अल्बर्ट हॉल जयपुर के विभिन्न युगों के सांस्कृतिक और तकनीकी विकास को देखने का सबसे अच्छा स्रोत है।

इस संग्रालय के बारे में आपको यहाँ बहुत जानकारी मिलेगी

धातु कला - धातु कला में विभिन्न धातुओ और पोत के बने आंकड़ों का एक बड़ा संग्रह संग्रालय में शामिल है। यहां पर जहाज जस्ता, पीतल, चांदी और अन्य धातुओं के बने होते है ये इनके उपयोग और इसकी सौन्दर्य आवश्यकताओं पर निर्भर करता है। ये इस पत्रो के सौन्दर्य के टुकड़ो के दिखा रहा है यह भारतीय शिल्प उधोग के दक्ष शिल्पकारो के द्वारा बनाया गयी विशेष कलाकारी है इसके लिए भारतीय दक्ष शिल्पकारो को सलाम करने के लिए मजबूर है। इन पात्रो को विभिन्न पौराणिक रामायण और महाभारत जैसे महान महाकाव्यों के चित्रो से सजाया गया है।

मिट्टी के बर्तन -यहां पर मिटटी के बने बर्तनों के कलात्मक सौन्दर्य कौशल को प्रदर्शित किया गया है यहां पर इसका बहुत बड़ा संग्रह है। इस संग्रह में शाही युग की जीवन शैली को अपनी आँखों से देख सकते है। 

आभूषण - यहां पर गहनों का बहुत बड़ा सग्रह है इनको देख कर समाज के विभिन्न वर्गो का पता चलता है। इसे देख कर आप आसानी से ये पता लगा सकते है कि कोनसे गहने आम लोगो के द्वारा पहनें जाते थे और कोनसे गहने शाही लोगो के द्वारा पहने जाते थे। निम्न वर्ग के किसानों के द्वारा पहने जाने वाले गहने भी अपने बुनियादी सौन्दर्य को प्रदर्शित करता है।

शस्त्र और शस्त्रागार - यहां पर मध्यकालीन युग की लड़ाई में इस्तेमाल हथियारों की एक किस्म भी शामिल है। प्राचीन काल में रणनीति के रूप में इस्तेमाल किये जाने वाले हथियार अपनी सुंदरता और प्रदर्शनी का सही मिश्रण है। डबल धार तलवार, टाइगर पंजे और बोली जयकार जैसे और भी अन्य हथियार थे जो अपनी सुंदरता को प्रदर्शित कर रहे थे। गुर्ज गदा, सुरक्षात्मक अमौर्स में प्रवेश करने में सक्षम कीलें थी गदा उस समय का वास्तव में अद्भुत कवच था।

सिक्का संग्रह - सिक्का संग्रह विभिन्न युगों से सिक्के को दर्शाता है। यहां पर मौर्य युग से लेकर ब्रिटिश भारत तक के सिक्को को देख कर आप मंत्रमुग्ध हो जायेगे। इन सिक्को का आकर और डिजाइन प्रत्येक युग की जीवन शैली के अंतर को दर्शा रहा है।

अन्य संग्रह

अन्य संग्रह में लघु चित्रों, संगीत वाद्ययंत्र, मिट्टी कला, संगमरमर कला, मूर्तियां, कालीन, फर्नीचर और जुड़नार, अंतरराष्ट्रीय कला और आइवरी शामिल हैं।

एयरपोर्ट से टैक्सी या ऑटो के माध्यम से कैसे अल्बर्ट हॉल संग्रहालय पहुँचें?

  • जयपुर हवाई अड्डे से दूरी जवाहर लाल नेहरू मार्ग (जेएलएन मार्ग) के माध्यम से4 किलोमीटर दूर है।
  • टैक्सी या ऑटो 25-30 मिनट लगेंगे अल्बर्ट हॉल तक पहुंचने के लिए।
  • एक तरफ का ओटो का किराया लगभग 110 -150 भारतीय रुपया।
  • एक तरफ का टैक्सी का किराया लगभग 140 - 180 भारतीय रुपया

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

  • बस सेवा अल्बर्ट हॉल के लिए उपलब्ध है। आप ओटो से जवाहर सर्किल तक पहुँच सकते है। वहां से आप छोटी चौपड़ की ओर बस 3 ए में बैठ कर जावे वहा से आप को 650 मीटर की दुरी पर महारानी कॉलेज छोड़ देगी वहां से आप 8 मिनट की दुरी से पैदल पहुँच जायेगे। यहां पर पहुँचने के लिए 50 - 55 मिनट का समय लगेंगा। 
  • टिकट और जानकारी के लिए - +91 141 223 3509

रेलवे स्टेशन से टैक्सी या ऑटो के माध्यम से

  • रेलवे स्टेशन से दूरी - 5.6 किलोमीटर पृथ्वीराज रोड की तरफ से।
  • टैक्सी या ओटो से 20 से 25 मिनट का समय लगेगा।
  • एक तरफ का ओटो का किराया लगभग 70 - 110 भारतीय रुपया।
  • एक तरफ का टैक्सी का किराया लगभग 100 - 150 भारतीय रुपया।

सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से

  • बस सेवा अल्बर्ट हॉल के लिए उपलब्ध है।
  • आप खासा कोठी जाने के लिए एक ओटो ले लो उससे आप जवाहर सर्किल की ओर जाने वाली बस 6 ए में बैठ जाओ वो आप को महारानी कॉलेज छोड़ देगी ये सार्वजनिक परिवहन से 650 मीटर की दुरी पर है। यहां से आप 8 मिनट में पैदल पहुँच जाओगे।
  • बस में यात्रा करने के लिए 30 - 35 मिनट का समय लगेगा।

अन्य सूचना

सुबह 9 बजे से शाम 5:30 बजे तक और 6:30 रात 9 बजे तक खुला ही रहता है मंगलवार को छोड़ कर हर दिन खुला रहता है मंगलवार के दिन की छुट्टी रहती है।

पार्किंग का किराया - 20 - 30 रुपया।

संपर्क - 0141 257 0099

टिकट के प्रकार

जनरल प्रवेश टिकट

ये टिकट केवल अल्बर्ट हॉल के परिसर में उपलब्ध हैं।

भारतीय आगंतुक    40 रुपये प्रत्येक
भारतीय छात्र 20 रुपये प्रत्येक
विदेशी आगंतुक 300 रुपया प्रत्येक
विदेशी छात्र 150 रुपये प्रत्येक

समग्र प्रवेश टिकट

यह टिकट 2 दिनों के लिए वैध है आप सभी को जयपुर में निम्नलिखित पर्यटक स्थलों पर घूमने की अनुमति है - एम्बर किले, अल्बर्ट हॉल, जंतर मंतर (वेधशाला), नाहरगढ़ किला, हवा महल, विद्याधर गार्डन, सिसोदिया रानी गार्डन और लसरलत ( सरगासूली )। समग्र प्रवेश टिकट केवल एम्बर किले, अल्बर्ट हॉल, हवा महल और जंतर मंतर (वेधशाला) आदि जगहों पर आप घूम सकते हो।

भारतीय आगंतुक 300 भारतीय प्रत्येक
भारतीय छात्र 40 रुपये प्रत्येक
विदेशी आगंतुक 1000 रुपये प्रत्येक
विदेशी छात्र 200 रुपये  प्रत्येक

रात को जाने की प्रवेश टिकिट

यह टिकिट 6:30 बजे शाम से रात 9 बजे के दौरान अल्बर्ट हॉल में आने के लिए वैध है।

भारतीय आगन्तुक 100 रूपये प्रत्येक
भारतीय छात्र 100 रूपये प्रत्येक
विदेशी आगन्तुक 100 रूपये प्रत्येक
विदेशी छात्र 100 रूपये प्रत्येक 

 

ऑडियो गाइड

भारतीय आगंतुक 114 रूपये
विदेशी आगन्तुक 171 रूपये

 

नि: शुल्क प्रवेश के लिए

नि: शुल्क प्रवेश 7 साल से कम उम्र के बच्चो के लिए है। 

किसी भी कॉलेज या स्कूल के छात्रों के लिए है लेकिन अगर संस्थापक सिफारिश करे तो। 

अगर इन तारीखों पर कोई आगन्तुक आते है तो निःशुल्क प्रवेश होगा।

 30 मार्च - राजस्थान दिवस के अवसर पर । 

18 अप्रैल - विश्व विरासत दिवस के अवसर पर । 

18 मई - विश्व संग्रहालय दिवस   अवसर पर । 

27 सितंबर - विश्व पर्यटन दिवस  अवसर पर ।

 


You May Also Like

The people of Jaipur have an opportunity to learn Yoga with the Bollywood actress Shilpa Shetty Kundra on 22nd and 23rd April 2017.

NSG commando team performed another mock drill at Jal Mahal. This is the third mock drill performed in 2 days. The first one was done at MGF Mall while the second one was done at Secretariat.

They die due to lack of timely or necessary medical treatment. In the country, likewise child death rate, mother death rate is also highest of Rajasthan.

Board of Control for Cricket in India (BCCI) Mr. Anurag Thakur has been quoted saying that BCCI has always wanted the best health and interests of the sport cricket that is much celebrated in the country.

Jawahar Kala Kendra (JKK) is developing a graphic studio in its premises, which is good news for artists.