MENU X
व्यवसायी और महेश्वरी समाज के युवा कार्यकर्ता, मुकुंद हुरकट की हत्या के लिए कांवटिया सर्किल पर 3 घंटे जाम


व्यवसायी और महेश्वरी समाज के युवा कार्यकर्ता, मुकुंद हुरकट की हत्या कर दी गयी। हत्यारो को पकड़ने के लिए समाज के लोगो ने कांवटिया सर्किल पर 3 घंटे जाम किया।

मुकुंद हुरकट विद्याधर नगर में पैकेजिंग के व्यापारी थे और साथ ही साथ महेश्वरी समाज के युवा कार्यकर्ता भी थे। 45 साल के मुकुंद का शव शुक्रवार रात को करधनी में कनकपुरा रेलवे स्टेशन के पास ट्रैक पर मिला।

मुकुंद के घरवालों ने एक्सपोर्ट कंपनी के मैनेजर सहित 4 लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है।

मुकुंद हुरकट के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए महेश्वरी समाज के लोगो ने शनिवार रात को विद्याधर नगर था का घेराव किया। यही नहीं बल्कि, जब रविवार को पुलिस मुकुंद की लाश का पोस्टमार्टम करवाने के लिए, उसे कावंटिया अस्पताल लेकर पहुंची, तो समाज के लोगों ने अपना आक्रोश दिखते हुए, कावंटिया सर्किल पर रास्ता जाम कर प्रदर्शन भी किया।

मंत्री महोदय अरूण चतुर्वेदी जी और महापौर अशोक जी लाहोटी मौके पर पहुंचे और उन्होंने वहां मौजूद लोगो को समझाया व न्याय दिलाने का भरोसा दिया।

हत्या का कारण आपसी रंजिश या पैसो का लेनदेन होना बताया जा रहा है। लोगो का कहना है कि मुकुंद के साथ मारपीट कर उसे रेल्वे ट्रैक पर फेंका गया।

पुलिस बल और आला अधिकारी ने पहुँच कर स्तिथी को संभाला। पुलिस पर भी यह आरोप लगाया जा रहा है कि उन्होंने हत्यारो को पूछताछ कर, बाद में फरार करवा दिया।

 

 


You May Also Like

Rajasthan Startup Fest is back and will be held on the 4th and 5th of November, 2016. Aspiring entrepreneurs must visit for exposure and learning.

Reports by CAG found out that 811 machines worth Rs.8 crores remained unchecked and unused at SMS Jaipur and PBM Bikaner.

There had been a recent case where the false ceiling in hotel Bella Casa, located at the cross roads of the B2 Bypass caused suffering to the people in its premises.

Maharaja Dr. Karni Singh Memorial Shooting Competition began on Thursday, July 8, 2016. Rajasthan players are performing exceptionally from the very first day of the championship.

Engineering colleges affiliated under the Rajasthan Technical University (RTU) are suffering from a low number of students seeking admission to these colleges. The figures are so meagre that it is almost astonishing.