MENU X


गणगौर के त्यौहार को लेकर उत्साह चरम सीमा पर है। और क्यों ना हो? आखिर गणगौर जयपुर वासियों के सबसे पसंदीदा त्योहारों में से एक है। 15 दिन तक पूजन के बाद आज, 30 मार्च 2017 को जयपुर में गणगौर की सवारी निकाली जाएगी।

गणगौर की सवारी

प्रत्येक वर्ष की तरह ही सिटी पैलेस के जनानी ड्योढ़ी से रवाना होकर त्रिपोलिया गेट से लवाजमें के साथ गणगौर की सवारी निकलेगी। गणगौर की सवारी 30 और 31 मार्च, दोनों दिन शाम 6 बजे धूम-धाम से निकलेगी। जनानी ड्योढ़ी सिटी पैलेस से निकलकर, त्रिपोलिया बाजार, छोटी चौपड़, और गणगौरी बाजार होते हुए पोंड्रिक पार्क पहुँचेगी।

पर तालकटोरा माँ गौरा के लिए तैयार नहीं

माँ गौरा हर साल धूम-धाम से तालकटोरा पहुँचती है। यहाँ श्रद्धालु उन्हें घेवर का भोग लगाते हैं। और तब रस्म में तालकटोरे का ही पानी काम में लिया जाता है। लेकिन इस बार ऐसा लगता है कि जयपुर नगर निगम शायद यह भूल गया।

जयपुर के तालकटोरे की दशा इतनी ख़राब है कि मानो नगर निगम को एहसास ही ना हो कि माँ गौरा यहाँ पधारेंगी। इस वर्ष तालकटोरे की दशा देखते हुए नही लगता कि ऐसा किया जा सकेगा। देखिये तालकटोरे की दशा बयान करती हुई यह तस्वीर।

आइये इस तस्वीर को इतना फैलाए कि जयपुर नगर निगम ध्यान दे। #RaiseYourVoice

 


You May Also Like

The young, energetic and very talented romance novel writer, Nikita Singh visited Jaipur to launch her latest book 'Every Time It Rains'.

The city of Jaipur will soon have two new museums, one of which will be built on the theme of Lord Shiva while the other on Music theme.

The only good part is that no one was present at the portion which collapsed else the pink city could have lost lives as well.

Ganesh Ram Jangir, a native of Nagaur, Rajasthan and an engineer by profession, has come up with a very effective healing device in form of “Jaipur Belt”.

For the art lovers of Jaipur, Rajasthan Lalit Kala Academy has introduced the concept of a movable art gallery in the form of ‘Exhibition Van’.