MENU X

गणगौर के त्यौहार को लेकर उत्साह चरम सीमा पर है। और क्यों ना हो? आखिर गणगौर जयपुर वासियों के सबसे पसंदीदा त्योहारों में से एक है। 15 दिन तक पूजन के बाद आज, 30 मार्च 2017 को जयपुर में गणगौर की सवारी निकाली जाएगी।

गणगौर की सवारी

प्रत्येक वर्ष की तरह ही सिटी पैलेस के जनानी ड्योढ़ी से रवाना होकर त्रिपोलिया गेट से लवाजमें के साथ गणगौर की सवारी निकलेगी। गणगौर की सवारी 30 और 31 मार्च, दोनों दिन शाम 6 बजे धूम-धाम से निकलेगी। जनानी ड्योढ़ी सिटी पैलेस से निकलकर, त्रिपोलिया बाजार, छोटी चौपड़, और गणगौरी बाजार होते हुए पोंड्रिक पार्क पहुँचेगी।

पर तालकटोरा माँ गौरा के लिए तैयार नहीं

माँ गौरा हर साल धूम-धाम से तालकटोरा पहुँचती है। यहाँ श्रद्धालु उन्हें घेवर का भोग लगाते हैं। और तब रस्म में तालकटोरे का ही पानी काम में लिया जाता है। लेकिन इस बार ऐसा लगता है कि जयपुर नगर निगम शायद यह भूल गया।

जयपुर के तालकटोरे की दशा इतनी ख़राब है कि मानो नगर निगम को एहसास ही ना हो कि माँ गौरा यहाँ पधारेंगी। इस वर्ष तालकटोरे की दशा देखते हुए नही लगता कि ऐसा किया जा सकेगा। देखिये तालकटोरे की दशा बयान करती हुई यह तस्वीर।

आइये इस तस्वीर को इतना फैलाए कि जयपुर नगर निगम ध्यान दे। #RaiseYourVoice

 


You May Also Like

The family carefully thinks about the plans, budgeting and things to employ in the creation of their house.

The city of Jaipur is home to more than 200 Nigerian students.

The Indian state of Rajasthan is known for its rulers, glorious past and the number of historical monuments that feature stunning architecture.

Museums are said as the managers of consciousness. They give us an interpretation of history and are said to be treasure of rich cultural heritage.

Placement drives in colleges and colleges brimming with companies, be it the multi-national companies or the information technology based companies,