MENU X
महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह जयपुर


महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह जयपुर के वर्तमान महाराजा है । महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह जयपुर के किशोर महाराजा है उनको उनके 18 वें जन्मदिन पर जयपुर का और राजपूतो के कच्छावा कबीले का प्रमुख बनाया गया और उनको सारी शाही परिवार की जिम्मेदारियां सोपी गई है । वह वर्तमान में इग्लैंड में पढ़ाई कर रहे है और उनका अध्यन पूरा होने के बाद उनकी राजनीती में आने की योजना है । 

परिवार

महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह राजकुमारी दीया कुमारी और नरेंद्र सिंह महाराज के बड़े बेटे है। उनका एक छोटा भाई लक्ष्य राज सिंह भी है जो अब सिरमौर का महाराजा है । उनकी छोटी बहन गौरवी को अक्सर उनकी माँ राजकुमारी दिया कुमारी और पद्मिनी देवी के साथ शाही कार्यो में देखा जाता है । पद्मनाभ की मां राजकुमारी दिया कुमारी भी सवाई माधोपुर की वर्तमान भाजपा विधायक है ।

कुमार पद्मनाभ के दत्तक ग्रहण समारोह

ब्रिगेडियर भवानी सिंह जी के एक ही बच्चा था वो थी राजकुमारी दिया कुमारी उत्तराधिकारी नही होने के कारण भवानी सिंह जी ने अपनी बेटी दिया कुमारी के बेटे को गोद लिया उनको कच्छावा राजपूत वंश का उत्तराधिकारी और जयपुर के शाही परिवार के सदस्य के रूप में स्वीकार किया । जब उनको 2002 में गोद लिया था तो एक भव्य समारोह का आयोजन किया गया था ।

कुमार पद्मनाभ सिंह को गोद लेने का समारोह जयपुर के सिटी पैलेस का दूसरे नंबर का सबसे बड़ा समारोह था । उनका गोद लेने का समारोह होने से पहले वहाँ पर महाराजा ब्रिगेडियर भवानी सिंह के पिता सवाई मान सिह द्वितीय को भी 81 साल पहले जयपुर के महाराजा के रूप में अपनाया गया था । तब महाराजा सवाई माधो सिह द्वितीय और मान सिंह द्वितीय को 1921 में ब्रिगेडियर बनाया गया था जो मूल रूप से लसरदा के थे । सिंह मान सिह के उत्तराधिकारी के रूप में 1931 में पैदा हुए लेकिन स्वाभाविक उत्तराधिकारी के अभाव में कुमार पद्मनाभ को उत्तराधिकारी के रूप में स्वीकार किया गया था ।

maharaja

कुमार पद्मनाभ के कोरोनेशन

ब्रिगेडियर भवानी सिंह का लंबी बीमारी के बाद 80 वर्ष की उम्र में 17 अप्रैल को निधन हो गया था । कुमार पद्मनाभ सिंह 12 वें के शोक में शामिल होने के लिए मेयो कॉलेज, अजमेर से बुलाया गया था । उन्होंने ब्रिगेडियर के जाने की चिंता जताई । और उसके बाद गैटोर की छतरियाँ में पुरे शाही सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया ।

शोक की अवधि पूरी होने पर कुमार पद्मनाभ सिंह जयपुर के महाराजा के  राज्याभिषेक कर ताज पहनाया गया था । शाही अंदाज से उनको ताज पहनाया गया था ताज पहनते समय उनको 12 तोपो की सलामी दी गई थी और एक शाही दल ने गार्ड ऑफ ऑनर की सलामी दी थी । इसके बाद जयपुर के नए महाराजा के रूप में महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह को अपनाया गया था ।

राज्याभिषेक समारोह और अन्य अनुष्ठान है,जो अप्रैल 2011 में किये गए थे । बाद में महाराजा पद्मनाभ सिंह जी गोविन्द देव जी मंदिर में गए वो अपने माता पिता और पद्मिनी देवी के साथ वहाँ गए थे । आज तक जयपुर के शाही परिवार के सबसे कम उम्र के महाराजा बने थे । युवा होने के साथ वो जिम्मेदार भी है कि उनको मुकुट के साथ कितनी सारी जिम्मेदारियां भी मिली है । राजमाता पद्मिनी देवी के सभी निर्णयो का ख्याल रखते थे ।

जयपुर के महाराजा उपाधिकारी का अधिकार दिया

12 जुलाई को अपने 18 वें जन्मदिन पर, 2016 में महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह ने सिटी पैलेस में एक शानदार राज्याभिषेक समारोह गुलाबी शहर जयपुर को नए महाराजा मिले। जयपुर के नए महाराजा को अपनी सारी जिम्मेदारियों का निर्वाह करना पड़ेगा ।

royal family

उनके अधिकार -

महाराजा भवानी सिंह जी ने उनको पुरे रीती रिवाज से गोद लिया और उनके उत्तराधिकारी को क़ानूनी रूप से बेटा होने का अधिकार प्राप्त हुआ है ।

  • सवाई भवानी सिंह जी के नाम से संबंधित सभी मामलों अब महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह के नाम के तहत चलाये जायेगे ।
  • सभी लेनदेन और अन्य कानूनी काम अब पद्मनाभ के नाम के तहत आयोजित किया जाएगा।

family

  • पद्मनाभ सिंह ने जयपुर के शाही परिवार के तहत सभी संपत्तियों पर पूरा अधिकार होगा। इनमें से कुछ गुणखातीपुरा हाउस, प्रिंसेस क्लब, प्रिंसेस हाउस, नाटाणी का बाग, जयपुर क्लब, रामगढ़ शूटिंग लाउंज, रेस्ट हाउस, शूटिंग लाउंज झील जमवारामगढ़ के मध्य में स्थित है, 3800 एकड़ जमीन के बंजर भूमि, 1900 एकड़ भूमि में शामिल लालवास बीड, सवाई माधोपुर लाउंज, दुर्गापुरा कृषि, लाल निवास,हथरोई किला, गोविंद देव जी मंदिर, गलता मंदिर, जयपुर हाउस, नई दिल्ली हाउस, सेंट हिल एस्टेट शूटिंग इंग्लैंड में, जयपुर में एक दर्जन से अधिक हवेलियों और चल संपत्ति लायक है।

family

  • सब से ऊपर गुणों के साथ-साथ, पद्मनाभ भी निम्नलिखित गुण है कि जयपुर के महाराजा के अधिकार के तहत गिर करने के अधिकार के मालिक हैं। लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें किसी भी बिंदु पर बंद नहीं बेच सकता है इसके बाद से इन संरचनाओं शहर के शाही विरासत का एक हिस्सा है। ये सिटी पैलेस के दीवान-ए-आम, सर्वतोभद्र, चन्द्र महल, जय निवास उद्यान, रामबाग पैलेस और बाहर मकान, जैन मंदिर, सवाई मान गार्ड मैस, बंजर भूमि है कि भगवान दास बाड़, शाही फ्रेम और जयगढ़ भी शामिल हैं।

शिक्षा

schoo;

Millfield School Street England

महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह मेयो कॉलेज, अजमेर से हाई स्कूल तक अपनी पढ़ाई पूरी की है। वर्तमान में, वह इंग्लैंड में मिललिफिएल्ड स्कूल में उच्च शिक्षा में लगे हैं। मिललिफिएल्ड स्कूल अपने खेल के लिए दुनिया भर में मशहूर है और इस खेल से शिक्षा में ध्यान केंद्रित किया  गया है।

पोलो खिलाड़ी

महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह को शाही खेल पोलो में बचपन से ही बहुत लगाव है। वह एक अच्छा खिलाड़ी है और पोलो ग्राउंड, जयपुर में पोलो का अभ्यास करते देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज तक कई पोलो टूर्नामेंट में भाग लिया है। अपनी पढ़ाई के साथ-साथ, वह भी इंग्लैंड मेंमिललिफिएल्ड स्कूल में सबसे अच्छा पोलो खिलाड़ी बनने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है।

polo
Padmanabh Singh playing Polo

महंगी कारों के लिए उनका प्यार

cars

महाराजा सवाई पद्मनाभ सिंह महंगी कारों के लिए एक विशेष प्रेम है।

भविष्य की योजनाएं

अपने अध्ययन के पूरा होने पर, युवा महाराजा राजनीति में शामिल होना चाहते है ।

 


You May Also Like

Post demonetization of the old Rs.500 and Rs.1000 notes and the launch of the new currency notes, here we bring you the 246-year-old history of Indian notes.

Heavy rainfall in Jaipur has filled up all major reservoirs in and around the Rajasthan capital. Also, Jaipur is expected to get more rains in the coming days.

Artists from Bengaluru, Kerala and Orissa are working on different styles at the creative art studio of Jaipur.

April 30th, 2015 was the day when little kid Girish Sharma of the Jaipur city became the commissioner of the city for a day. Girish was of a very young age of 11 years.

The Jaipur Metro has announced premium fares during peak hours. There will be frequent availability of trains during rush hours for the convenience of the public.